Creation of Internal Quality Assurance cell

 यू.जी.सी के माप दण्ड के अनुसार आगामी दो वर्षो के लिए महाविद्यालय की IQACसमिति का गठन निम्नानुसार किया जाता है

  प्राचार्य (पदेन)-अध्यक्ष
डॉ इला घोष -
डॉ. निषा तिवारी -
बाह्य विषेषज्ञ
श्री कैलाष गुप्ता - ि नियोक्ता/उधोगपत
डॉ. शोभना खरे - वरिष्ठ प्राध्यापक
डॉ.. आर. सेमुअल - वरिष्ठ प्राध्यापक
डॉ.. ए.सी. तिवारी - एल्युमिनाई प्रतिनिधि
डॉ.. मलय वर्मा -  
डॉ. रंजना मिश्रा - पालक/समाज के प्रतिनिधि
डॉ.रामकुमार रजक -  
श्रीमती मीना तिवारी -  प्रशानिक प्रतिनिधि
पंकज जैन - श्वेता चैहान  छात्र/छात्रा
डॉ. विभा निगम - IQAC सदस्
डॉ. आभा पांडे - IQACप्रभारी समन्वयक

शासकीय महाकोशल कला एवं वाणिज्य स्वशासी महाविद्यालय में आंतरिक गुणवत्ता प्रकोष्ठ एवं सेमेस्टर प्रकोष्ठ द्वारा नव प्रवेषित बी.ए./बी.काम तथा एम.ए/एम. काम के विद्यार्थियों के लिये उन्मुखीकरण दिनांक 15.9.2015 को उन्मुखीकरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। प्राचार्य ए.एल. महोबिया ने कहा कि सभी के सहयोग से महाविद्यालय की छवि ऐसी बनाना है कि सभी के मानस पटल पर हमारे महाविद्यालय की पहचान अंकित हो सके इसके लिए अपने लक्ष्य को ध्यान मे रखना आवष्यक है।

 
UGC ने उच्च शैक्षणिक संस्थानों में गुणवत्ता का स्तर बनाय रखने के लिए NAAC नामक संस्थान का गठन किया है जो पांच वर्ष के अन्तराल में उच्च शिक्षा संस्थानों का मूल्यांकन कर उन्हें ग्रेड प्रदान करती है . महाविद्यालयीन स्तर पर standard मेन्टेन करने के लिए IQAC का गठन किया गया है जिसका पूरा नाम है Internal Quality Assurance Cell: आंतरिक गुणवत्ता आश्वस्ति प्रकोष्ठ. IQAC का प्रमुख कार्य है महाविद्यालय के विकास की योजनायें बनाना, उनके क्रियान्वन हेतु यथासंभव दिशानिर्देश प्रदान करना, एवं उनको मॉनिटर करना. विद्यार्थियों की विभिन्न अकादमिक एवं शैक्ष्नेत्तर गतिविधियों के आलावा प्राध्यापकों एवं नॉन टीचिंग स्टाफ के विकास से सम्बंधित कार्यक्रमों का आयोजन करना और उन सबके अभिलेख संधारण करने का काम भी IQAC द्वारा किया जाता है और वार्षिक प्रतिवेदन NAAC को भेजा जाता है डॉ. सुमनलता पुरोहित ने सेमेस्टर पद्धति एवं सतत् व्यापक मूल्यांकन की उपयोगिता को बताया। डॉ...जयश्री जोषी ने सी.सी.ई. की विभन्न विधाओं पर प्रकाष डाला। क्रीड़ा अधिकारी डॉ. राजपूत ने बताया कि पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद भी आवष्यक है डॉ..डॉ... किरण जैन ने सांस्कृतिक कार्यक्रम में भाग लेने के लिए छात्रों को प्रेरित किया। डाॅ. सुमनलता पुरोहित ने रेमेडियल कक्षाओं की जानकारी दी।डॉ... प्रभा पुरवार ने विभिन्न प्रकार की छात्रवृत्ति की जानकारी दी। डॉ.. अरूण शुक्ला ने विवेकानंद कैरियर प्रकोष्ठ की षासन की योजनाओं की जानकारी व रोजगार हेतु विभिन्न कंपनियों के आगमन की जानकारी दी व विभिन्न प्रकार के प्रषिक्षण कार्यक्रमों की जानकारी दी।डॉ... रूपेन्द्र गौतम ने एन.एस.एस. के अंतर्गत की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों के बारे में जानकारी दी। डॉ.. पुष्पा तनेजा ने जनसुनवाई व विभिन्न प्रकार के क्लब के बारे में जानकारी दी। डॉ... आभा रंजन ने वर्चुअल कक्षा की उपयोगिता की जानकारी दी। व छात्रों को इसका लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम का समापन.डॉ.. षोभना खरे के अध्यक्षीय उद्बोधन के साथ किया इस अवसर परडॉ..डॉ... आर. सेमुअल, .डॉ.. चित्रा राय..डॉ... प्रीतिवाला मिश्रा, डॉ... उषा भारती व अन्य प्राध्यापक डॉ.. प्रलय कान्त उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन समन्वयक डॉ.. आभा पांडे ने किया आभार प्रदर्षन डॉ सुमनलता पुरोहित ने किया। कार्यक्रम में समिति के सदस्य डॉ... चित्रा राय एवं डॉ.शाक्य का विषेष सहयोग रहा.


 

Report of Computer Awareness Training Program 2015-16
A STEP TOWARDS DIGITALIZATION
Certificate were distributed by the Chief Guest Shri Ashok Rohani, MLA Cantt Area Jabalpur to the Professors and Guest Faculties of Govt. Mahakoshal Arts & Commerce College, for the successful completion of a week long Computer Awareness Training, under Faculty Development Program. The training was organized under the guidance of Principal Dr. A.L. Mahobia, from XIIth plan grant of UGC by in-charge Dr. Abha Pandey. The inauguration was done by Dr. Nisha Tiwari, Retd. Principal Govt. MKB Collge, Jabalpur on 19th January 2015. She motivated the trainee by saying that there is no age limit for learning.
Dr. Abha Pandey informed that IQAC strives to maintain and enhance the quality of academic and nonacademic activities of college. The present training is a step towards digitalization with the objective of making the members of the staff computer savvy and enhance their skills. It would also lead to paperless mechanism in college. Neelima, the computer trainer imparted the training in a very friendly manner to 35 participants. The participants learnt to make their profile on MS Word, calculate Income Tax on MS Excel, and make Power Point Presentation. They also created their email id.
The Chief Guest Mr. Ashok Rohani mentioned that time is progressing very fast. The need of the hour is to match our speed with time. The world today is dependent on technology. Itís thus necessary for those who impart education to enhance their skills and update themselves so that they meet the growing demand of modern times. Such training program will prove to be a milestone in the development.
Self evaluation test was conducted on the last day. In the feedback given by the participants it was mentioned that such training programmes should be conducted twice in a session in future and course should be minimum fifteen days duration. Program ended in the Presidential Address of Principal (Govt. Mahakoshal Arts & Commerce College Jabalpur) He said that faculty development program would definitely be beneficial for the faculty members, students and also for the society in the days to come.
Vote of thanks was delivered Vibha Nigam, member of IQAC. Dr. Sumit Pasi conducted the program. Members of the staff, guest faculties and Shailendra Bhavdiya, Mahesh, Dileep were supportive in making the program successful.

      Dr. Abha Pandey                                                                                            Dr. A.L. Mahobai
        Convener                                                                                                               Principal
 

 
Free Web Hosting